Types of inflation based on rate

 Based on the rate at which inflation increases it is again a classified broadly in following four types :-

1.Creeping inflation :- It refers to a situation in which inflation remains well within control and moves at an extremely slow pace it increases at a rate of 1% to 3% it characteristics of developed economics and it constantly good.

2.Walking / Trotting inflation :-  It refers to that form of inflation which remains above 3% and up to 10% it is a characteristic of developing economies.

3.Run away inflation :- It refers to that inflation which is above 10% up to 30%. Here inflation is starts going completely out of control it is considered to be very bad for any economy.

4.Hyper inflation /Galloping inflation :- if the refers to that inflation which completed goes out of control. It is a sign of failed economy.

 

SOME IMPORTANT CONCEPTS RELATED WITH INFLATION :-

1. Deflation :~ It is just the opposite of inflation. Deflation refers to continuous decline in the price of goods and services. Deflation takes place in an economy mainly because of two important reasons-

If the demand remains steady but the supply exceeds the demand,in such situation the goods and services which are high in supply will automatically fall down.

Deflation may be also because of the demand falling down, it means when the supply remains the same but the demand falls down the prices will automatically decline.

If deflation is because of the first reason, it is the supply exceeding the demand it is not bad for an economy.

However, it deflation is because of the low demand then it is considered bad for the economy.This decline in demand may be because of low liquidity or low money supply.

It may be because of banks not being able to provide sufficient amount of loan. it may be also because of high rate of unemployment.If this is the condition the economic growth will suffer adversely. New investment will not take place in the economy. Additional employment opportunities cannot be created. Hence deflation is considered to be extremely bad for the economy. Deflation may also take place if the economy of a country reaches its saturation. Example :- In case of developed countries.In such economies since the consumer have everything that they desire in life,the demand remains low.

Deflation may also take place because of aging population of a country. example :- case of Japan

2.Disinflation:-  Sometimes deflation and disinflation they both are confused with each other.It is thought that they are Syno. However, they both are different from each other.In case of disinflation, the price does not fall down. In a situation of disinflation the price increases continuously but the rate at which the price increases that rate witness a continuous decline.

•In other words, decline in the rate of Inflation is disinflation therefore, it can be said that every case of disinflation is also a case of inflation but every case of inflation is not a case of disinflation.

3. Reflation :-  Reflation refers to a situation in which after a continuous decline in demand and the price. The demand is divided again.When the demand in the economy remain low the prices may start fall down. This may not be good for any economy. Hence, in such situation the Government of the country as well as Central Bank Of the country try to revive the economy by creating demand. For this purpose, the government may reduce the direct taxes such as the income tax.This will leave the consumer with surplus amount of money in their hand. This surplus money can be used for the purpose of consumption.

•At the same time the government may also reduce indirect taxes such as GST, making the goods and services cheaper. This will make consumption even more attractive. the government may also increase public expenditure through welfare scheme which may Infuse additional amount of money in the economy. This will further create demand. On the other hand,the central bank of the country may Infuse more amount of money in the banking system. Which will enable the banks to provide more and more loan.The central bank may also reduce the rate of interest, making availability of loan cheaper.This will again create demand in the economy. Hence,after a continuous deflation and decline in the prices when the demand starts reviving along with increase in the price due to efforts made by the government as well as the central bank, then it is termed as Reflation.

4.Stagflation:-  Stagflation is a combination of two terms ‘stag’ and ‘flation’. Here stag stands for stagnant where as flation stands for inflationStagflation is a contradictory situation in which the economy remains stagnant. Without growth but inflation continuously increases.Here the cause behind inflation is not demand pull inflation.Here inflation is mainly because of cost push and structural factors. Stagflation is an extremely bad condition for the economy.It is a situation in which the rate of unemployment remains high but even after that inflation persists.

Normally, with increase in unemployment rate inflation should fall down but this does not happen in case of stagflation.

                   PHILIPS CURVE

 Normally,  with increase in unemployment inflation should fall down. This normal relationship between unemployment and inflation was shown with the help of a curve by Alban philips. He was a British economist, born in New Zealand. This curve is known as Philips curve. However, this normal relationship between unemployment and inflation is not followed in case of Stagflation. this is the reason why stagflation is referred to as contradictory condition.

5.Wage price spiral:- Wage and prices are very closely associated with each other. It means that if the wages increase the price is bound to increases.

If the price increases the demand for increase in wage will take place. This further increase in the wages will again lead to increase in price. It becomes a continuous process.

For example :- if the income of a section of a society increases it will create demand and rise in the price will be even for the other sections of the society.This increases in the price will compell the other sections to demand for increase in their wages.If their wage is increased it will lead to further demand pull inflation and if this section is engaged in productive activities, even the cost push inflation will be witnessed.It is a continuous process known as wage price spiral

6.Inflation tax:- Inflation tax is not a tax collected by the government. However the impact of inflation and the impact of tax remains the same and hence, the term inflation tax is used. Just like taxes inflation increases the cost of consumption.

•Similarly, just like the taxes even inflation effect our saving adversely. hence the term inflation tax is used.

Questions based on these topics :-

Question 1. What do you understand by inflation based on rate?

Question 2.Write a short note on Deflation and Disinflation.

Question 3. Differentiate between Stagflation and Reflation.

Question 4. Discuss Wage price spiral and inflation tax briefly.

दर के आधार पर मुद्रास्फीति के प्रकार

जिस दर से मुद्रास्फीति बढ़ती है, उसके
आधार पर इसे फिर मोटे तौर पर निम्नलिखित
 चार प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है:-

1. रेंगती महंगाई :- यह एक ऐसी स्थिति
 को संदर्भित करता है जिसमें मुद्रास्फीति
 अच्छी तरह से नियंत्रण में रहती है और
 बेहद धीमी गति से चलती है यह 1% से
 3% की दर से बढ़ती है यह विकसित
 अर्थशास्त्र की विशेषता है और यह लगातार
 अच्छी होती है।

2.चलती/दौड़ती महंगाई :-  यह मुद्रास्फीति
 के उस रूप को संदर्भित करता है जो
 3% से ऊपर और 10% तक रहता है,
 यह विकासशील अर्थव्यवस्थाओं की एक
 विशेषता है।


3.मुद्रास्फीति दूर भगाएं:- यह उस मुद्रास्फीति
 को संदर्भित करता है जो 10% से 30%
 तक है। यहां महंगाई पूरी तरह से नियंत्रण
 से बाहर होने लगती है, यह किसी भी
 अर्थव्यवस्था के लिए बहुत बुरा माना जाता है।


4.हाइपर इन्फ्लेशन/गैलोपिंग इन्फ्लेशन :- यदि
 उस इन्फ्लेशन को संदर्भित करता है जो
 पूरा हो गया है और नियंत्रण से बाहर
 हो जाता है। यह असफल अर्थव्यवस्था
 का संकेत बिल्कुल विपरीत है।

मुद्रास्फीति से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण
 अवधारणाएँ :-
1. अपस्फीति:-
अपस्फीति का तात्पर्य
वस्तुओं और सेवाओं की कीमत में निरंतर
गिरावट से है। मुख्य रूप से दो महत्वपूर्ण
कारणों से अर्थव्यवस्था में अपस्फीति होती है-
यदि मांग स्थिर रहती है लेकिन आपूर्ति
 मांग से अधिक हो जाती है, तो ऐसी
 स्थिति में जिन वस्तुओं और सेवाओं की
 आपूर्ति अधिक होती है, वे स्वत: नीचे
 गिर जाएंगी।अपस्फीति मांग के गिरने के कारण भी
 हो सकती है, इसका मतलब है कि जब
 आपूर्ति समान रहती है लेकिन मांग कम
 हो जाती है तो कीमतों में स्वत: ही गिरावट
 आ जाएगी।

यदि अवस्फीति पहले कारण से है, तो यह
 मांग से अधिक आपूर्ति है, यह एक
 अर्थव्यवस्था के लिए बुरा नहीं है।

हालाँकि, यह अपस्फीति कम माँग के
 कारण है तो इसे अर्थव्यवस्था के लिए
 बुरा माना जाता है। माँग में यह गिरावट
 कम तरलता या कम धन आपूर्ति के
 कारण हो सकती है।

यह बैंकों द्वारा पर्याप्त मात्रा में ऋण प्रदान
 करने में सक्षम नहीं होने के कारण हो
 सकता है। यह बेरोजगारी की उच्च दर
 के कारण भी हो सकता है। यदि यह
 स्थिति है तो आर्थिक विकास पर प्रतिकूल
 प्रभाव पड़ेगा। अर्थव्यवस्था में नया निवेश
 नहीं होगा। अतिरिक्त रोजगार के अवसर
 सृजित नहीं किए जा सकते हैं। इसलिए
 अपस्फीति को अर्थव्यवस्था के लिए बेहद
 खराब माना जाता है। यदि किसी देश की
 अर्थव्यवस्था अपनी संतृप्ति तक पहुँचती है
 तो अपस्फीति भी हो सकती है। उदाहरण
 :- विकसित देशों के मामले में। ऐसी
 अर्थव्यवस्थाओं में चूंकि उपभोक्ता के पास
 वह सब कुछ है जो वे जीवन में चाहते हैं,
 इसलिए मांग कम रहती है।

किसी देश की बढ़ती आबादी के कारण
 भी अपस्फीति हो सकती है। उदाहरण:-
 जापान का मामला

2.विस्फीति:- कभी-कभी अपस्फीति और
 अवस्फीति दोनों एक दूसरे के साथ भ्रमित
 होते हैं। ऐसा माना जाता है कि वे एक ही
 हैं।
 हालांकि, वे दोनों एक दूसरे से अलग हैं।
 अवस्फीति के मामले में, कीमत नीचे नहीं
 गिरती है। अवस्फीति की स्थिति में कीमत
 लगातार बढ़ती है लेकिन जिस दर से कीमत
 बढ़ती है उस दर में लगातार गिरावट देखी
 जाती है।

• दूसरे शब्दों में, मुद्रास्फीति की दर में
 गिरावट अवस्फीति है इसलिए, यह कहा
 जा सकता है कि अपस्फीति का हर मामला
 मुद्रास्फीति का भी मामला है, लेकिन
 मुद्रास्फीति का हर मामला अवस्फीति का
 मामला नहीं है।
3. रिफ्लेशन:- रिफ्लेशन एक ऐसी स्थिति
 को संदर्भित करता है जिसमें मांग और
 कीमत में लगातार गिरावट के बाद। मांग
 फिर से विभाजित हो जाती है। जब
 अर्थव्यवस्था में मांग कम रहती है तो
 कीमतों में गिरावट शुरू हो सकती है।
 यह किसी भी अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा
 नहीं हो सकता है। अत: ऐसी स्थिति में
 देश की सरकार के साथ-साथ देश का
 सेंट्रल बैंक मांग पैदा करके अर्थव्यवस्था
 को पुनर्जीवित करने का प्रयास करता है।
 इस प्रयोजन के लिए, सरकार आयकर
 जैसे प्रत्यक्ष करों को कम कर सकती है।
 इससे उपभोक्ता के हाथ में अधिशेष धनराशि
 रह जाएगी। इस अधिशेष धन का उपयोग
 उपभोग के उद्देश्य से किया जा सकता है।
 
• साथ ही सरकार वस्तुओं और सेवाओं को
 सस्ता बनाकर GST जैसे अप्रत्यक्ष करों को
 भी कम कर सकती है। इससे खपत और
 भी आकर्षक हो जाएगी। सरकार कल्याणकारी
 योजना के माध्यम से सार्वजनिक व्यय भी
 बढ़ा सकती है जो अर्थव्यवस्था में अतिरिक्त
 धन का संचार कर सकती है। इससे मांग
 और बढ़ेगी। दूसरी ओर, देश का केंद्रीय
 बैंक बैंकिंग प्रणाली में अधिक मात्रा में
 धन डाल सकता है। जिससे बैंक अधिक से
 अधिक ऋण देने में सक्षम होंगे। केंद्रीय बैंक
 ऋण की उपलब्धता को सस्ता करते हुए
 ब्याज दर को भी कम कर सकता है।
 इससे अर्थव्यवस्था में फिर से मांग पैदा
 होगी। इसलिए, लगातार अपस्फीति और
 कीमतों में गिरावट के बाद जब सरकार के
 साथ-साथ केंद्रीय बैंक द्वारा किए गए प्रयासों
 के कारण कीमतों में वृद्धि के साथ-साथ
 मांग फिर से बढ़ने लगती है, तो इसे
 रिफ्लेशन कहा जाता है।
 
4.स्टैगफ्लेशन:- स्टैगफ्लेशन दो शब्दों 'स्टैग'
 और 'फ्लेशन' से मिलकर बना है। यहाँ
 स्टैग का अर्थ स्थिर है जबकि स्फीति 
 का अर्थ मुद्रास्फीति है। स्टैगफ्लेशन एक
 विरोधाभासी स्थिति है जिसमें अर्थव्यवस्था
 स्थिर रहती है। विकास के बिना लेकिन
 मुद्रास्फीति लगातार बढ़ती है। यहां मुद्रास्फीति
 के पीछे का कारण मांग आधारित मुद्रास्फीति
 नहीं है। यहां मुद्रास्फीति मुख्य रूप से लागत
 वृद्धि और संरचनात्मक कारकों के कारण है।
 स्टैगफ्लेशन अर्थव्यवस्था के लिए एक बेहद
 खराब स्थिति है। यह एक ऐसी स्थिति है
जिसमें बेरोजगारी की दर ऊंची रहती है लेकिन
 उसके बाद भी महंगाई बनी रहती है।
 
आम तौर पर, बेरोजगारी दर में वृद्धि के
 साथ मुद्रास्फीति नीचे गिरनी चाहिए लेकिन
 स्टैगफ्लेशन के मामले में ऐसा नहीं होता है।

          फिलिप्स वक्र
आम तौर पर, बेरोजगारी में वृद्धि के साथ
 मुद्रास्फीति नीचे गिरनी चाहिए। बेरोजगारी
 और मुद्रास्फीति के बीच इस सामान्य
 संबंध को एल्बन फिलिप्स द्वारा एक
 वक्र की सहायता से दिखाया गया था।
 वह एक ब्रिटिश अर्थशास्त्री थे, जिनका
 जन्म न्यूजीलैंड में हुआ था। इस वक्र
 को फिलिप्स वक्र के नाम से जाना जाता है।
 हालांकि, मुद्रास्फीति मंदी के मामले में
 बेरोजगारी और मुद्रास्फीति के बीच इस सामान्य
 संबंध का पालन नहीं किया जाता है। यही
 कारण है कि स्टैगफ्लेशन को विरोधाभासी
 स्थिति कहा जाता है।
 
5.मजदूरी मूल्य सर्पिल:-मजदूरी और कीमतें
 एक दूसरे के साथ बहुत निकटता से जुड़ी
 हुई हैं। इसका मतलब यह है कि यदि
 मजदूरी बढ़ती है तो कीमत बढ़ना तय है।
 
यदि कीमत बढ़ती है तो मजदूरी में वृद्धि
 की मांग होगी। मजदूरी में यह और वृद्धि
 फिर से कीमत में वृद्धि का कारण बनेगी।
 यह एक सतत प्रक्रिया बन जाती है।
 
उदाहरण के लिए :- यदि किसी समाज के
 एक वर्ग की आय में वृद्धि होती है तो यह
 मांग पैदा करेगा और मूल्य में वृद्धि समाज
 के अन्य वर्गों के लिए भी होगी। मूल्य में
 यह वृद्धि अन्य वर्गों को अपनी आय में
 वृद्धि की मांग करने के लिए मजबूर करेगी।
 मजदूरी। यदि उनकी मजदूरी में वृद्धि हुई है
 तो इससे मुद्रास्फीति की मांग बढ़ेगी और यदि
 यह वर्ग उत्पादक गतिविधियों में लगा हुआ है,
 तो यहां तक ​​कि लागत प्रेरित मुद्रास्फीति भी
 देखी जाएगी। यह एक सतत प्रक्रिया है जिसे
 मजदूरी मूल्य सर्पिल के रूप में जाना जाता है
 
6.मुद्रास्फीति कर:-मुद्रास्फीति कर सरकार
 द्वारा वसूला जाने वाला कर नहीं है।
 हालाँकि, मुद्रास्फीति का प्रभाव और कर
 का प्रभाव समान रहता है और इसलिए,
 मुद्रास्फीति कर शब्द का उपयोग किया
 जाता है। जिस प्रकार करों की मुद्रास्फीति
 से उपभोग की लागत बढ़ जाती है।
 
• इसी तरह, करों की तरह ही मुद्रास्फीति
 भी हमारी बचत पर प्रतिकूल प्रभाव डालती
 है। इसलिए शब्द मुद्रास्फीति कर का उपयोग
 किया जाता है।
 
इन विषयों पर आधारित प्रश्न :-
प्रश्न 1. दर पर आधारित मुद्रास्फीति से आप
 क्या समझते हैं?
प्रश्न 2. अपस्फीति और अवस्फीति पर संक्षिप्त
 टिप्पणी लिखिए।
प्रश्न 3. स्टैगफ्लेशन और रिफ्लेशन में अंतर
 स्पष्ट कीजिए।
प्रश्न 4. मजदूरी मूल्य सर्पिल और मुद्रास्फीति
 कर की संक्षेप में चर्चा करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *